ॐ श्री गुरुभ्यो नमः|| गुरु ब्रह्मा गुरु विष्णु गुरु देवो महेश्वर: | गुरु साक्षात् परब्रह्मा तस्मै श्री गुरवे नमः ||

HTML codes

19 August 2016

ययाति

 ययाति


ब्रह्मा के पुत्र अत्रि ऋषि के कुल में ययाति हुए जिनके पांच पुत्र थे- यदु, तुर्वसु, द्रुह्यु, अनु और पुरु। 
ययाति के बाद इन पांचों ने संपूर्ण धरती पर राज किया और अपने कुल का दूर-दूर तक विस्तार किया। 
आगे चलकर ये ही वंश यादव, तुर्वसु, द्रुह्यु, आनव और पौरव कहलाए। 
ऋग्वेद में इन्हीं को पंचकृष्टय: कहा गया है।
ययाति के पुत्र यदु से यदु कुल चला। यदु खुद एक प्रतापी और चक्रवर्ती सम्राट थे।
 ययाति के दूसरे पुत्र पौरव से पौरव कुल चला जिसमें कई प्रतापी राजा हुए।
 परीक्षित और जन्मेजय पौरव कुल से ही थे।

No comments:

Post a Comment